गाय का दूध vs भैंस का दूध – आपके लिए कौन सा मिल्क ज्यादा बेहतर है

गाय का दूध vs भैंस का दूध – दूध पीना हमारे सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है दूध में भरपूर मात्रा में कैल्शियम, प्रोटीन तथा अन्य पोसक तत्व पाए जाते हैं। दूध ही नहीं बल्कि दूध से बने सभी उत्पाद जैसे – दही, छाज, घी, मक्खन, छेना, तथा पनीर में भरपूर मात्रा में पोसक तत्व पाए जाते हैं।

बच्चे हों या बड़े सभी को दूध अवस्य पीना चाहिए। 1 साल से 2 साल के बच्चों को रोजाना 3 से 4 कप यानि करीब 800 से 900 मिली एक दिन में दूध पीना चाहिए। 2 से 8 साल के बच्चों को रोजाना आधा ग्लास यानि 2 कप दूध पीना चाहिए और 9 साल से ज्यादा उम्र वालों को 1 ग्लास यानि करीब 1 पाव यानि 250 ml दूध रोजाना पीना चाहिए। 1 ग्लास फुल क्रीम दूध में 146 कैलोरी तथा 8 ग्राम फैट होता है।

Also Read: डायबिटीज के मरीजों के लिए अच्छी सब्जियां

अब सवाल ये उठता है की हमें गाय का दूध पीना चाहिए या भैस का दूध पीना चाहिए-

देखो पीने के लिए तो गाय का दूध ही सबसे उपयोगी माना जाता है। क्योंकि इससे मोटापा नहीं बढ़ता है। भैंस का दूध का ज्यादातर उपयोग दूध के उत्पाद बनाने में किया जाता है। जैसे – क्रीम, घी, दही, मक्खन, चीज, पनीर, छेना इत्यादि।

गाय का दूध vs भैंस का दूध

अब हम गाय के दूध और भैंस के दूध की तुलना करके जानेंगे की कौन का दूध आपको पीना चाहिए।

प्रोटीन

भैंस का दूध – भैंस के दूध में गाय के दूध की तुलना में 11 प्रतिसत ज्यादा प्रोटीन होता है। लेकिन बहुत छोटे बच्चे तथा बूढ़े या फिर जिनके पाचन तंत्र में समस्या है वे पचा नहीं पाते।

गाय का दूध – भैंस के दूध की तुलना में गाय के दूध में कम प्रोटीन होता है। इसलिए इसे पचाना आसान होता है। नवजात बच्चों को गाय का दूध ही पिलाया जाता है।

फैट

भैंस का दूध – यदि आपको वजन घटाना है या फिर आप चाहते हैं की आपका बजन न बढे तो आपको भैंस का दूध नहीं पीना चाहिए। भैंस के दूध में गाय के दूध की तुलना में 100% ज्यादा फैट होता है  लेकिन यदि आप वजन बढ़ा रहे हैं तो आपको भैंस का दूध पीना चाहिए।

गाय का दूध – गाय में फैट कम होता है और यही गाय की दूध की सबसे बड़ी विशेषता है। यदि आपको अपना शरीर बैलेंस में रखना है तो आप गाय का दूध पिए क्योंकि इसमें फैट कम होता है इसलिए यह आपका वजन बढ़ने नहीं देता।

कॉलेस्ट्रोल

भैंस का दूध – भैंस की दूध में कम कोलेस्ट्रॉल होता है। यदि आपको डायबटीज, हाईपरटेंसन, किडनी की बीमारी या पथरी है वो आप डॉक्टर की सलाह से भैंस का दूध ले सकते हैं।

गाय का दूध – गाय के दूध में कोलेस्ट्रॉल ज्यादा होता है इसलिए यदि आपको डायबटीज, हाईपरटेंसन, किडनी की बीमारी या पथरी है तो आपको गाय का दूध कम मात्रा में लेना चाहिए। आप डॉक्टर की सलाह से ज्यादा भी ले सकते हैं लेकिन यदि कॉलेस्ट्रोल की प्रॉब्लम है तो आपको गाय के दूध से परहेज करना चाहिए।

कैलोरी

भैंस की दूध – भैंस के दूध में प्रोटीन और फैट ज्यादा होता है तो जाहिर सी बात है भैंस के दूध में कैलोरी भी ज्यादा होता है। 100 मिली भैंस के दूध में 100 से 117 कैलोरी होती है।

गाय का दूध – 100 मिली गाय के दूध में 70 कैलोरी होता है इसलिए जिसे कम कैलोरी लेने की सलाह दी गयी है उन्हें गाय का दूध लेना चाहिए।

मिनिरल्स और अन्य

भैंस की दूध – भैंस की दूध में गाय के दूध की तुलना ने 91 % अधिक मिनिरल्स होता है और साथ ही 37.7 % अधिक आयरन 118% अधिक फास्फोरस तथा मैग्निसियम और मिनिरल्स लाइक पोटेशियम भी गाय के दूध से अधिक पाया जाता है। इसमें कैल्सियम भी गाय के दूध की तुलना में ज्यादा मात्रा में होती है।

गाय की दूध – गाय के दूध में भरपूर मात्रा में विटामिन, मिनिरल्स और कैल्शियम पाए जाते हैं लेकिन भैस की दूध की तुलना में थोड़े कम होते हैं।

निष्कर्ष

गाय के दूध में सभी चीजें कम मात्रा में पाए जाते हैं लेकिन जितनी मात्रा में शरीर को जरुरत है उतना पाए जाते हैं। भैंस का दूध अधिकतर भारत, पाकिस्तान और इटली इत्यादि देश में ही उपयोग किया जाता है लेकिन गाय का दूध पुरे विश्व में उपयोग किया जाता है। और गाय के दूध में सभी पोसक तत्व भी मौजूद होते हैं जिससे कोई व्यक्ति स्वस्थ रह सके और भैंस का दूध पीने से मोटापा भी बढ़ता है लेकिन गाय का दूध आपके बॉडी को तंदरुस्त रखता है और गाय का दूध आपके दिमाग बढाने में भी मदत करता है मेरी तो यही सलाह रहेगी की आप गाय के दूध का उपयोग करें बाकी आपकी मर्जी।

Also Read: शर्दियों के दिनों में स्वस्थ रहने के लिए 10 हेल्थी फूड


यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो किसी जरूरतमंद के साथ facebook, whatsapp, ट्विटर पर share करें और यदि आपका कोई सवाल है तो निचे comment अवस्य करें हम आपकी पूरी सहायता करेंगे और comment करके बताये की आप कौन सा दूध लेते हैं गाय का या भैंस का।

You might like

About the Author: MyHealthMyLife

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.